Best Loving Shayari In Hindi

Loving Shayari In Hindi 2019

Best Hindi loving Shayari for your loved ones, Best Loving Shayari In Hindi

Loving Shayari In Hindi
Loving Shayari In Hindi

 

हमने कब माँगा है तुमसे अपने वफाओ का सीला,

बस दर्द देते रहा करो मोहब्बत बढ़ती जायेगी।

 

 

जिंदा दिल रहिए जनाब,ये चेहरे पे उदासी कैसी…
वक्त तो बीत ही रहा है,उम्र की ऐसी की तैसी…!!

 

 

दर्द होता है ये देख कर ….कि तेरे पास

सबके लिये वक्त है बस मुझे छोड कर

 

 

आपकी छोटी-छोटी बातों का ख्याल भी वही रखेगा…..

जो आपको सच्चे मन से चाहता होगा…….

 

 

जुस्तजू जिसकी थी उस को तो न पाया हमने
इस बहाने से मगर देख ली दुनिया हमने

 

 

तुझको रुसवा न किया ख़्हुद भी पशेमाँ न हुये
इश्क़ की रस्म को इस तरह निभाया हमने

 

 

कब मिली थी कहाँ बिछड़ी थी हमें याद नहीं
ज़िंदगी तुझको तो बस ख़्ह्वाब में देखा हमने

 

 

ऐ ‘आद’ और सुनाये भी तो क्या हाल अपना
उम्र का लम्बा सफ़र तय किया तनहा हमने

 

 

बस इतनी पाकीजा रहे आईना-ए-ज़िंदगी… ++
जब ख़ुद से नज़र मिले तो बेमिसाल हो…++

 

 

#दिल की नाज़ुक रगें टूटती हैं……
#याद इतना भी कोई न आए !!

 

 

कितना मीठा था वो गुस्से भरा लहजा उसका।
उसने जिसजिस को भी जाने का कहा ,बैठ गया।

 

 

गुजरते #दिनों का नहीं “बल्कि”
यादगार #लम्हों का नाम हैं “जिन्दगी….।।

 

 

लहजा थोड़ा ठडां रखे साहब…
गर्म तो हमें सिर्फ़ चाय पसदं है

 

 

काश तुम अदरक होते…
कसम से जी भर के कूटती मै ..

 

 

मैं खुद को करना चाहता हूँ पूरा..
क्या तुम फिर से मेरी बनोगी..

 

 

मेरे लफ्जों से न कर मेरे किरदार का फैसला ,…
तेरा वजूद मिट जाएगा मेरी हकिकत ढूंढते ढूंढते …..

 

 

कोई रुठे तो उसे जल्दी मना लिया करो ऐ दोस्तो…….

गुरुर की जंग में अक्सर जुदाई जीत जाया करती है……

 

 

एक तुम्हारे खयाल मे हमने
ना जाने कितने ख्याल छोडे है💔

 

मुझसे दुर रहकर अब वो खुश रहता है……

उसे खुश रहने दो ….

अब मेरा ये इश्क कहता है…… 

 

 

जिंदा दिल रहिए जनाब,ये चेहरे पे उदासी कैसी…
वक्त तो बीत ही रहा है,उम्र की ऐसी की तैसी…!!

 

 

तुम्हारी खुशियों के ठिकाने बहुत होंगे मगर

हमारी बेचैनियों की वजह बस तुम ही हो

 

 

फिर से जीने की उम्मीद किसी दर्द का मरहम नहीं होता,
वक्त जो गुजर गया दोस्त उन लम्हों का पुनर्जन्म जन्म नहीं होता….. 

 

 

 वक़्त के एक ‘दौर’ में इस कदर भूखा था मैं,
कि कुछ न मिला तो धोखा ही खा गया..

 

 

मुमकिन अगर हो सके तो वापस कर दो,

बिना दिल के अब हमारा दिल नहीं लगता।

 

 

❤️किसी को नफरत है मुझसे
और कोई प्यार कर बैठा ❤️
❤️किसी को यकिन नहि मेरा
और कोई एतबार कर बैठा ❤️

 

 

कब साथ निभाते है लोग,
आंसुओ की तरह
बिछड़ जाते है लोग,
वो ज़माना और था
लोग रोते थे गैरों के लिए,
आज तो अपनों को रुलाकर
मुस्कुराते है लोग !!

 

 

रोज एक नई तकलीफ रोज एक नया गम…

ना जाने कब ऐलान होगा कि मर गए हम……

 

 

 

सुनो-ऐ-चाँद…
कुछ ख़ामोश कुछ गुमशुदा से हैं हम…
तेरे बिना ख़ुद से जुदा-जुदा से हैं हम..

 

 

 

वो सख्स आज भी दिल के बहुत करीब है
जो खामोशियों का सहारा लेकर दूरियों को अंजाम दे गया

 

 

उसको छुना जुर्म है तो मेरी सजा-ए-मौत का इँतजाम करो…..

मेरे दिलकी जिद है कि आज उसे सीने से लगाना है……

 

बेनकाब चेहरे हैं, दाग बड़े गहरे हैं
टूटता तिलिस्म आज सच से भय खाता हूँ

 

“कह दो इन हसरतो को की ….कही और जा बसे ,
इतनी जगह कहां है इस…….
दिल-ए-दाग-दार मे “……

 

दुनिया फ़रेब करके हुनरमंद हो गई……

हम ऐतबार करके गुनाहगार हो गए……

 

” पानी पे लिखी थी मेरी तकदीर मेरे मालिक,
हर ख्वाब बह जाता है मेरे रंग भरने से पहले ही !! “

 

 

उनका भी कभी हम दीदार करते है,
उनसे भी कभी हम प्यार करते है,
क्या करे जो उनको हमारी जरुरत न थी,
पर फिर भी हम उनका इंतज़ार करते है

 

 

उलझन है अगर तो हमसे ना छुपाना,

साथ ना दे जुबान तो आंखों से बताना,

हर कदम पर हम साथ हैं तुम्हारे..

हमदर्द बनाया है तो दवा समझकर

हक जरूर जताना.. * लव यू *

 

 

मन पर ऐतबार करना सीखो,
खुद से प्यार करना सीखो,
भला खुद को खुद से धोखा हुआ है कभी?
ख़ुदा में खुद को और खुद को ख़ुदा में देखो

 

 

दफन हैं मुझमे मेरी कितनी रौनकें ……. मत पूछो ,
उजड़ उजड़ के जो बसता रहा वो शहर हुँ मैं…..!!

 

 

 उनका भी कभी हम दीदार करते है,
उनसे भी कभी हम प्यार करते है,
क्या करे जो उनको हमारी जरुरत न थी,
पर फिर भी हम उनका इंतज़ार करते है !

 

 

काश .. तकदीर का एक शब्द लिखने
की इज़ाजत हो जाये
बस …..
लिखे तेरा नाम और तेरे हो जाये .

 

 

जीते जी ही मौत तक का अहसास हुआ…..

और लोग पुछते है की मोहब्बत में क्या खास हुआ..

 

 

जिनको भी गमे ए इश्क में मौत मिल गयी

समझो की उसे मरने से फुर्सत मिल गयी….

 

 

किस कदर शुक्रिया अदा करूँ,

उस ख़ुदा का,

अल्फाज़ नही मिलते ज़िन्दगी इतनी खुबसूरत ना

होती जो आप जैसे दोस्त नहीं मिलते….

 

 

चलो अब दुनिया छोड़ देते है,
मैंने सुना है कि लोग बहुत याद
करते है चले जाने के बाद !!

 

 

अगर सलीके से तोडते मुझे मेरे अपने..
यकीनन मेरे टुकड़े भी उनके बहुत काम आते….

 

 

 

है कुबूल, शिकायते हमे आपकी सारी…..
लेकिन कहना तो थोड़ा मुसकरा कर कहना,!

 

 

 

loving shayari
loving shayari

 

 

*कुछ यादे दे गये, कुछ धोखे दे गये..*

*जो कुछ भी दे गये, सब अपने दे गये…!!*

 

 

 

खुद से भी बढ़कर मैंने तेरी चाहत की है
हा ….… इस दिल ने ❤️
प्यार नही ..
इश्क नही ..
इबादत .. की है

 

 

 

आरज़ू मेरी, चाहत तेरी,
तमन्ना मेरी, उल्फत तेरी,
इबादत मेरी, मोहब्बत तेरी,
बस तुझ से तुझ तक है दुनिया मेरी..

 

 

 

फूँक तो दूं अपने अन्दर की शिकस्तों को.
.मगर जब राख उड़ेगी दूर तक शोर करेगी….

 

 

 

 

कोई फर्क नही पड़ता कि तुमने किसे चाहा और कितना चाहा….. 
हमें तो ये पता है कि हमने तुम्हें चाहा और हद से ज्यादा चाहा… I. 

 

 

 

काश कहीं से मिल जाते
वो अल्फ़ाज़ हमें भी…!

जो तुझे बता सकते कि
हम शायर कम तेरे दिवाने ज्यादा hai

 

 

 

तुझे देख कर ये जहाँ रंगीन नजर आता है,
तेरे बिना दिल को चैन कहां आता है,
तू ही है मेरे इस दिल की धड़कन,

 

 

 

”तमन्ना है मेरे मन की, हर पल साथ तुम्हारा हो….!!
जितनी भी सांसें चलें मेरी हर सांस पर नाम तुम्हारा हो.!!

 

 

 

Loving Shayari

Follow my blog with Bloglovin