Dard Bhari Shayari – Best New Dard Hindi Shayari

Dard Bhari Shayari
Dard Bhari Shayari

Dard Bhari Shayari – Best New Dard Hindi Shayari

All New latest and updated Dard Bhari Shayari for people who love to read Shayari and share Hindi Shayari. All Shayari is updated every day for new Hindi Shayari, Love Shayari, romantic Shayari you can check our website other posts for the latest updated Shayari.

 

गहराई प्यार में हो तो बेवफाई नहीं होती,
सच्चे प्यार में कहीं तन्हाई नहीं होती, 
मगर प्यार ज़रा संभल कर करना मेरे दोस्त,
प्यार के ज़ख्म की कोई दवा नहीं होती।

 

आज हम उनको बेवफा बताकर आए हैं,
उनके खतो को पानी में बहाकर आए हैं,
कोई निकाल न ले उन्हें पानी से..  
इस लिए पानी में भी आग लगा कर आए हैं।

 

आज ज़रा वक़्त पर आना मेहमान-ए-ख़ास हो तुम।
आज ज़रा वक़्त पर आना मेहमान-ए-ख़ास हो तुम।

 

काश कि हम उनके दिल पे राज़ करते,
जो कल था वही प्यार आज करते,
हमें ग़म नहीं उनकी बेवफाई का,
बस अरमां था कि… 
हम भी अपने प्यार पर नाज़ करते।

 

ऐ दोस्त कभी ज़िक्र-ए-जुदाई न करना,
मेरे भरोसे को रुस्वा न करना,
दिल में तेरे कोई और बस जाये तो बता देना,

 

दर्द को भी दर्द होने लगा…. 
दर्द आज खुद मेरा घाव  धोने लगा… 
मैं दर्द के लिए कभी रोया नहीं…. 
पर दर्द खुद मुझे छूकर आज रोने लगा….

 

हमारे पास तो सिर्फ तेरी यादे हैं..
ज़िन्दगी तो उसे मुबारक हो, जिसके पास तू है !

 

Ulti chaal chalte hain yeh ishq wale ,
Aankhe band karte hai deedar ke liye …

 

मुमकीं ना था मेरे दिल से तेरा दूर जाना,
मगर मुरजाये फुलो का खीलना भी मुशकिल हे सूरज की चन्द रोशनी से…

 

मुझसे पूछे तो कोई रौशनी की शक्ल
मैं तेरा चेहरा न बना दूँ तो कहना…

 

Hindi Shayari 

 

दर्द को भी दर्द होने लगा…. 
दर्द आज खुद मेरा घाव  धोने लगा… 
मैं दर्द के लिए कभी रोया नहीं…. 
पर दर्द खुद मुझे छूकर आज रोने लगा….

 

रोज़ एक नई तकलीफ, रोज़ एक नया गम,
ना जाने कब ऐलान होगा की मर गए हम!
!टूट कर चाहा था तुम्हे और तोड़ कर रख दिया तुमने मुझे.

 

तुम अगर भूल भी 
जाओ तो ये हक हैं तुमकों…..
मेरी बात और हैं मैंने 
तो मोहब्बत की हैं…..

 

मुझे यकीन है कि मोहब्बत उसे कहते हैं ….
   जिसमें जख्म ताजा रहे…. 
  और निशान मिट जाए….

 

तुम चुन सकते हो “हमसफर” नया
मेरा तो “इश्क़” है मुझे इज़ाज़त नही,,

 

सब तेरी मोहब्बत की इनायत है,
वरना मैं क्या मेरा दिल क्या मेरी शायरी क्या

 

आज छोड़ दिया मौत ने मुझे ए कह  कर….
 कि जाओ पहले जिंदा तो होकर आओ

 

बेवफा से भी प्यार होता है .!
यार तो फिर भी यार होता है ..!!

 

गलत किया वो कहानी पढ कर।
छोड़ो  वो गुजरी कहानी थी।।

 

रिस्ता जिस्मों का होता तो भूल जाते तुम्हें 
अनजाने में उंगलियां मेरी रूह पर फेर गये हो तुम

 

दुश्मनों की फ़िक्र किसे है साहब,
यहाँ तो बचना ही अपनों से है !!

 

आज दोनों चाँद पर शबाब  होंगा,
पर मेरा चाँद ला जवाब होगा…!!!

 

मैं राज तुझसे कहूं हमराज बन जा जरा ..
करनी है कुछ गुफ्तगू अल्फाज बन जा जरा ..
जिसे पीकर वह अक्सर मारा करता है

 

बिन बूंद पिए उसके लिए वह प्यासी रहेगी
करवा_चौथ पर फिर वह उपासी रहेगी

 

हुनर वो नहीं जो तुने आजमाया ,
हुनर वो है, जो मैने अभी तक दिखाया नहीं “…..

 

इश्क़ का तो सालों पहले गला घोंट दिया था मैंने,
बस यादें कांच के ग्लास में भर के हर शाम पीता हूँ….

 

काश बनाने वाले ने दिल कांच का बनाया होता…. 
 तोड़ने वाले के हाथ में थोड़ा जख्म तो आया होता….

Best New Dard Hindi Shayari

 

फिर पूछा गया मेरे ” इश्क ” का नाम
फिर टाल दिया मैंने “ख़ुदा “कहकर

 

आवाज देता रहा ये दिल बेहिसाब उसको ..
आना तो दूर पलटना भी मुनासिब नहीं समझा ..

 

आवाज देता रहा ये दिल बेहिसाब उसको ..
आना तो दूर पलटना भी मुनासिब नहीं समझा ..

 

कमियां तराश के मुझे, अपने काबिल बना दे…..
सागर है तू डूबा के खुद में, मुझकों साहिल बना दे….

 

अच्छे अच्छों के दम निकलते हैं 
हम जब महफ़िल में क़दम रखते हैं

 

देखिये अब न याद आइये आप, 
आजकल आप से खफा हूँ मैं !!

 

ज़ाहिर न होने देना ये बात जहां भर मे ..!!
मैं तुमसे खफा हूं ये आपस की बात है ..!!

 

उनकी चाल ही काफी थी इस दिल के होश उड़ाने के लिए,
अब तो हद हो  गई जब से वो पाँव में पायल पहनने लगे।

 

आँखों से जो उतरी है दिल मे,,
    तस्वीर है इक अन्जानी की,,
खुद ढूंढ रही है, # शम्मा जिसे,,
   क्या बात है उस परवाने की….!!

 

आँखों से जो उतरी है दिल मे,,
    तस्वीर है इक अन्जानी की,,
खुद ढूंढ रही है, # शम्मा जिसे,,
   क्या बात है उस परवाने की….!!

 

आज दोनों चाँद शबाब पर होंगे,,,,
पर मेरा चाँद ला जवाब होगा,,,,,

 

अच्छे नहीं है हम ज़रा सोच समझ के खेलना 
जलते हुए चराग के साथ खेला नहीं करते 

 

जल्दबाजी में सांस ही ली जाती है जनाब ,
ज़िन्दगी कहाँ अब फुरसत से जी जाती है,,

 

,जो मांगते हैं दुआ़ऐं उम्र “दराज” की 
उन्हें बताओ जीना कोई “मजाक” नहीं है,, ……

 

हम दोनो की तनहाईयों का आलम न पूंछ ए दोस्त।
हम दोनो आगाज़ मे तन्हा थे अंजाम मे भी तन्हा हैं ।।

 

बे-असर हो के, ये दुआ ने कहा
तेरे हिस्से में तो, ख़ुदा ही नहीं

 

अभी बहुत काम लेने है दर्द ए जिगर  से
कहीं जिंदगी को करार ना आ जाए

Gam bhari shayari

सलीक़े से हवाओं में जो खुशबू घोल सकते हैं..!
अभी कुछ लोग बाक़ी हैं जो उर्दू बोल सकते हैं..!

 

आप जब तीर चलाने पर उतर आते हैं
आपको हम ही निशाने पे नज़र आते हैं…

 

*रहे न कुछ मलाल बड़ी शिद्दत से कीजिये,*
*नफरत भी कीजिये तो ज़रा मोहब्बत से कीजिये…*

 

इतने घने बादल के पीछे,
कितना तन्हा होगा चाँद।

 

इस जमाने की तरह तू भी मुझे पत्थर ना समझ
 मैं वही मोम हूं जो तेरे अश्कों से पिघल जाता था..

 

बदन ने छोड़ दिया रूह ने रिहा न किया 
मैं क़ैद ही में रहा क़ैद से निकल के भी

 

कैसी बातें करते हो साहब मैं लफ़्ज़ों से भी ना खेलूँ,
ज़माना तो दिलों से खेलता है 

 

वक़्त ने ये कहा है रुक रुक के 
आज के दोस्त कल के बेगाने ..

 

जीत लूँ तुम्हें इस सारी क़ायनात से
तुम भी कभी मेरी दुआओं पर आमीन तो कहो

 

Dard Bhari Shayari

मुझको कुबूल है सारी बगावतें तेरी
बस शर्त इतनी है कि
मोहब्बत मे कोई मिलावट ना हो।।

 

वफ़ा का दीप जलाना है क्या किया जाये 
खिलाफ सारा ज़माना है क्या किया जाए..

 

मुमकिन नहीं है हर रोज मोहब्बत के नए किस्से लिखना,
मेरे दोस्तों अब मेरे बिना अपनी महफ़िल सजाना सीख लो।

 

बना के ताजमहल एक दौलतमंद आशिक ने !!!   
हम गरीबों के प्यार का मजाक बना दिया!!!!

 

Hindi Shayari